न खाता न बही प्रभात दरोगा जी, जो कहे वही हैं सही। संवाददाता युसुफ अंसारी लखीमपुर खीरी

न खाता न बही प्रभात दरोगा जो कहे वही है सही।

  कोतवाली फूलबेहड़ की घटना।

पीड़िता के पिता से अभियुक्त की गिरफ्तारी के बदले लिये 8 हजार रुपये। 

 

मामला मीडिया पर आने पर पीड़ित पिता पर फोन पर धमका रहा रिश्वतखोर दरोगा।

 

संवाददाता युसुफ अंसारी लखीमपुर खीरी (यू पी)

लखीमपुर-खीरी-सरकार का निजाम ही बदल गया हो पर पुलिस की कार्यशैली मे आज भी सुधार होता नही दिख रहा। पुलिस के आलाअधिकारी आये दिन अधीनिस्थो को पीड़ित से मित्रवत व्यवहार की बात करते हैं।

 

 

मगर जनपद खीरी पुलिस के फूलबेहड़ मे तैनात दरोगा प्रभात गुप्ता ने पीड़ित पिता से लड़की बरामद करने के बदले पीड़ित के पिता से ही 8 हजार रुपया ले लिया जब पीड़िता का पिता दरोगा एस. आई प्रभात गुप्ता से मिलने थाना फूलबेहड़ गया तो वर्दी के नशे में चूर दरोगा ने पीड़िता व उसके पिता को भद्दी भद्दी गालियां देते हुए थाने से भगा दिया।

 

 

उक्त घटना के सम्बन्ध में पुलिस अधीक्षक खीरी से शिकायत करने पर पीड़िता पर के पिता पर फर्जी मुकद्दमे में फसाकर जेल भेजने की धमकी भी दे डाली। पीड़िता ने उपरोक्त घटना के सम्बन्ध में जिलाधिकारी खीरी व मुख्यमंत्री हेल्फलाइन पर फोन कर व अन्य अधिकारियों को डाक से शिकायती पत्र भेजकर न्याय की गुहार लगाई।

 

 

मामला यही पर नही थमा दिनाँक 31-05-2018 गुरूवार सुबह करीब 10 बजे पीड़िता अपने बहनोई व अपनी सगी माँ के साथ अपने गाँव से पुलिस अधीक्षक खीरी से न्याय की गुहार लगाने आ रही थी इसी दौरान बनवारी पुल से आगे सुआगाड़ा की तरफ जैसे ही पहुँचे राजकुमार व सीतापुर पुत्रगण मिश्री निवासी- रेवतीपुरवा थाना-भीरा व कमला देवी पत्नी जगदीश निवासी- मीलपुरवा थाना फूलबेहड़ व लालाराम पुत्र कल्लू निवासी – मझौरा थाना भीरा,सद्दाम पुत्र नोखे आदि ने पीड़िता व उसकी माँ तथा बहनोई को रोक लिया और पीड़िता से छेड़छाड़ करने लगे जब पीड़िता के बहनोई ने विरोध किया तो उसे जमकर मारा पीटा और पीड़िता के कपड़े फाड़ डाले।

 

 

और राजकुमार ने देशी तमन्चा फिल्मी अन्दाज मे लहराते हुये कहा कि पूर्व में दर्ज अपना मुकद्दमा वापस ले लो नही तो फिर से बेईज्जती कर डालूंगा चेहरे पर तेजाब डालकर शक्ल बिगाड़ दूँगा। पीड़िता का आरोप है कि मामले की विवेचना कर रहा

 

 

एस. आई दरोगा प्रभात गुप्ता अभियुक्तों से मिला हुआ है व दुराचार की घटना में लिप्त हैं। इस कारण दरोगा अभियुक्तों की गिरफ्तारी नही कर रहा है। पीड़िता ने पुलिस अधीक्षक खीरी से मुकद्दमे की विवेचना किसी अन्य थाने से कराने का निवेदन किया है जिससे उसको न्याय मिल सके उक्त घटना से पीड़िता काफी भयभीत व सदमे मे है।

Related

JOIN THE DISCUSSION

Translate »
Janta Newsindia

Janta Newsindia